Sunday, February 24, 2019

मुख्यमंत्री ने किया लोक मड़ई एवं कृषि मेले का शुभारंभ

SHARE
किसानों की आर्थिक हालत तथा खेतों की सेहत सुधारने में कारगर होगी प्रदेश सरकार की चार चिन्हारी योजना:  भूपेश बघेल
रायपुर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज शाम राजनांदगांव जिले के विकासखंड मुख्यालय डोंगरगांव में तीन दिवसीय लोक मड़ई एवं कृषि मेले का शुभारंभ किया। श्री बघेल ने इस अवसर पर स्थानीय जनता को बधाई देते हुए कहा कि सालों से आयोजित हो रही लोक मड़ई के साथ कृषि मेले को जोड़ा गया है। इससे लोक मड़ई का स्वरूप भव्य हो गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि डोंगरगांव विधायक श्री दलेश्वर साहू ने लोक संस्कृति के संरक्षण एवं सवर्धन के लिए अच्छा कार्य किया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने लोक मड़ई एवं कृषि मेले के इस साल के आयोजन के लिए 5 लाख रूपए की मंजूरी दे दी है। पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने समारोह की अध्यक्षता की। 
    मुख्यमंत्री ने समारोह में लगभग 6 करोड़ रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। श्री बघेल ने सभी अतिथियों के साथ सबसे पहले कृषि मेले में लगे विभिन्न विभागीय स्टॉलों का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने समारोह में लोक मड़ई के संदर्भ में प्रकाशित लोक मड़ई पत्रिका का विमोचन भी किया।     
    श्री बघेल ने कहा कि प्रदेश सरकार ने खेती किसानी को अधिक फायदेमंद बनाने के लिए नई-नई योजनाएं शुरू की हैं। किसानों को खुशहाल बनाने के लिए खेती की लागत कम करना और उत्पादन बढ़ाना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की नरवा, गरवा, घुरूवा और बाड़ी योजना खेतों की सेहत सुधारने तथा किसानों और खेतिहर मजदूरों की आय बढा़ने में सफल होगी। नरवा विकास योजना के तहत गांवों के आस-पास बहने वाले नालों को रिचार्ज किया जाएगा। इसके लिए चेक डेम और स्टाप डेम बनाये जाएंगे। इससे सतही जल के साथ-साथ भू-जल भी बढ़ेगा। खेतों की सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था होगी। पशुधन संरक्षण के लिए गांवों में कम से कम तीन एकड़ में गोठान बनाया जाएगा। गोठान में पशुओं के चारा, पानी और सुरक्षा की व्यवस्था सरकार की ओर से की जाएगी। चारा-पानी और चरवाहों के मानदेय की व्यवस्था सरकार की ओर से होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब फिर से जैविक खेती का जमाना आ गया है। घुरवा योजना से जैविक खाद तैयार की जाएगी। छोटे-छोटे किसानों को साग, सब्जी, फल, फूल और दलहनी-तिलहनी फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित करने बाड़ी योजना बनाई गई है। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला खनिज निधि से सिंचाई सुविधाओं के विकास के लिए प्राथमिकता से कार्य स्वीकृत किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के दो महीने के कार्यकाल में प्राथमिकता के आधार पर हर वर्ग के हित में फैसले लिए गए हैं। किसानों से अब हर साल 2500 रूपए प्रति क्विंटल की दर से धान की खरीदी की जाएगी। राशन कार्ड धारी सभी परिवारों को 35 किलो चावल हर महीने दिया जाएगा। चार सौ यूनिट तक घरेलू बिजली की खपत होने पर बिजली बिल को आधा माफ किया जाएगा। श्री बघेल ने समारोह में उपस्थित लोगों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि डोंगरगांव के जन सहयोग मैदान में स्टेडियम बनाने का कार्य प्रदेश सरकार करेगी। उन्होंने जन सहयोग के 50 लाख रूपए से मैदान के समतलीकरण कराने के लिए स्थानीय जनता की सराहना की।  
    पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने अपने उद्बोधन में लोक मड़ई एवं कृषि मेले के सफल आयोजन के लिए जनता को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि लोक मड़ई के जरिए वर्षों से छŸाीसगढ़ी लोक कला और संस्कृति को बढ़ावा देने का कार्य किया जा रहा है। इसमें इस साल से कृषि मेला भी जुड़ गया। डोंगरगांव विधायक श्री दलेश्वर साहू ने अपने स्वागत उद्बोधन में बताया कि लोक मड़ई स्थानीय स्तर पर परंपरा का स्वरूप ले चुकी है। सालों से इसका आयोजन हो रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू के विशेष सहयोग से इस साल कृषि मेले को लोक मड़ई के साथ आयोजित किया जा रहा है। इससे लोक मड़ई का आकर्षण बढ़ गया है। विधायक श्री साहू ने लोक मड़ई एवं कृषि मेला आयोजन स्थल जन सहयोग मैदान में स्टेडियम निर्माण के साथ अन्य विभिन्न मांगों की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया। 

लगभग 6 करोड़ रूपए के कार्यों का भूमिपूजन-लोकार्पण 

    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समारोह में 6 करोड़ रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। उन्होंने डोंगरगांव में ऑडिटोयिम (स्वीकृत राशि 50 लाख रूपए), वृद्धा आश्रम डोंगरगांव (स्वीकृत राशि एक करोड़ 15 लाख रूपए), धान संग्रहण केन्द्र विश्राम शेड सेवताटोला डोंगरगांव (स्वीकृत राशि 29 लाख 44 हजार रूपए), धान संग्रहण केन्द्र विश्राम शेड बीजाभांठा (स्वीकृत राशि 20 लाख रूपए), उप स्वास्थ्य केन्द्र भोथली (स्वीकृत राशि 20 लाख 45 हजार रूपए), नलजल योजना किरगी (स्वीकृत राशि 27 लाख 17 हजार रूपए), गोठान निर्माण 5 नग  जनपद पंचायत डोंगरगांव (स्वीकृत राशि 62 लाख 31 हजार रूपए) तथा तालाब सौन्दर्यीकरण डोंगरगांव (स्वीकृत राशि 50 लाख रूपए) का भूमिपूजन किया। मुख्यमंत्री ने हाट बाजार डोंगरगांव लागत एक करोड़ 42 लाख रूपए, सीसी रोड डोंगरगांव लागत 56 लाख रूपए और नाली निर्माण डोंगरगांव  लागत 33 लाख रूपए का लोकार्पण किया। 
    समारोह में छŸाीसगढ़ शासन के पूर्व मंत्री श्री धनेश पाटिला, जिला पंचायत राजनांदगांव की अध्यक्ष श्रीमती चित्रलेखा वर्मा, उपाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र दाऊ वैष्णव, नगर पंचायत डोंगरगांव की अध्यक्ष श्रीमती संध्या साहू सहित अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि, दुर्ग संभाग के आयुक्त श्री दिलीप वासनिकर, कलेक्टर श्री जय प्रकाश मौर्य, पुलिस अधीक्षक श्री कमलोचन कश्यप, सीईओ जिला पंचायत श्रीमती तनुजा सलाम और विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। 
SHARE

Author: verified_user

0 comments: